सदर अस्पताल दलालों के कब्जे में,अपने ही सरकार के सिस्टम से दुखी है बिहार ब्रांड मुखिया रितु जायसवाल

0
66

विक्की कुमार सिंह (सीतामढ़ी) पुरे देश में सुशासन बाबू के नाम से चर्चित नितीश कुमार के सुशासन के दावों की पोल सीतामढ़ी में खुल रही है। बिहार सरकार के दावों की सीतामढी सदर अस्पताल की कुव्यवस्था ने क़लई खोल कर रख दी है। सदर अस्पताल दलालों के चंगुल में तो फँसा ही है, अस्पताल कर्मियों पर भी मनमानी और भ्रष्टाचार में लिप्त होने का समय समय पर मामला उजागर होता रहा है। ताज़ा मामला मंगलवार की रात का है।

 

रत में डिलिवरी के लिये सदर अस्पताल पहुँची महिला की चिकित्सकों और कर्मियों की लापरवाही से मौत हो गई।  मरीज की मौत के बाद परिजनो ने अस्पताल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाये हैं और हंगामा शुरू कर दिया। इसके बाद पूरा अस्पताल प्रशासन मौक़े से फ़रार हो गया। इसके बाद मौक़े पर दल बल के साथ पहुँची पुलिस ने बमुश्किल समझा बुझाकर मामला शांत कराया। सदर अस्पताल पहुंची पुलिस को भी मरीज के आक्रोशित परिजनों का सामना करना पड़ा। मरीज के परिजनों ने पुलिस को कहा की सब कुछ यहाँ पुलिस की जानकारी में होता है।

 

घटना की सुचना पर  सिंहवाहिनी पंचायत की मुखिया रितु जायसवाल ने भी लगातार हो रही लापरवाही के कारण मौत पर चिंता जताते हुये सरकार और प्रशासन से कार्रवाई की माँग की है। उधर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान के बाद कार्रवाई की बात कही है। परिजनों ने डॉक्टर के द्वारा ग़लत दवा देने और इलाज में लापरवाही बरतने के साथ साथ निजी क्लिनिक में इलाज के लिये दबाब बनाने का आरोप लगाया है । ग़ौरतलब हो कि एक सप्ताह पहले भी जच्चा बच्चा की मौत डिलेवरी के दौरान हो गई थी तब भी बवाल हुआ था।

 

बावजूद इसके अस्पताल प्रशासन आँखों पर पट्टी बाँधे हुआ है।  अब देखना यह है की सीतामढ़ी के जिलाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह ने एक बार फिर यहाँ अपना योगदान आज दिया है। सदर अस्पताल को दलालों से मुक्त कराए जाने में क्या कार्रवाई करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here