राम जैसा बेटा तू दी ह, बेटी सीता समान, गाकर नीतू नवगीत ने श्रोताओं को भाव विभोर किया

0
15
सीतामढ़ी : पुनौरा धाम में आयोजित सीतामढ़ी महोत्सव के समापन समारोह में बिहार की प्रसिद्ध लोक गायिका डॉ नीतू कुमारी नवगीत ने पारंपरिक गीतों की प्रस्तुति करते हुए उपस्थित श्रोताओं का मन मोह लिया । नीतू नवगीत ने अपनी प्रस्तुतियों को मुख्यतः राम और सीता जी की जोड़ी पर केंद्रित रखा ।  जनकपुर में  राम और सीता के प्रथम मिलन  के प्रसंग पर आधारित लोकगीत देख कर रामजी को जनक नंदिनी, बाग में बस खड़ी की खड़ी रह गई, राम देखे सिया को सिया राम को चारो अँखिया लड़ी की लड़ी रह गईं गीत के माध्यम से नीतू नवगीत ने श्रोताओं को खूब झुमाया । राम जी के जन्म से जुड़ा सोहर धन धन भाग्य अयोध्या के धन राजा दशरथ हो कि धन्य है कौशल्या रानी के भाग्य कि राम जी ले ले जन्मवा हो गाकर उन्होंने उपस्थित श्रोताओं को भाव विभोर किया ।
गंगा गीत में उन्होंने मां गंगा से वरदान मांगते हुए राम जैसा बेटा और सीता जैसी बेटी की कामना करते हुए गाया :-  मांगी ला हम वरदान हे गंगा मैया मांगी ला हम वरदान, राम जैसा बेटा तू दी ह बेटी सीता समान, जनकपुर जैसा हो नईहर, ससुराल अयोध्या समान । बिहार की गौरवशाली धरती की वंदना करते हुए उन्होंने जिस धरा पर हमने जन्म लिया वही हमारा मान है ए बिहार की धरती तुझ पर जीवन कुर्बान है गीत पेश किया, जिसे खूब पसंद किया गया । नीतू नवगीत के साथ कैसियो पर राजन कुमार, हारमोनियम पर राकेश कुमार, तबला पर भोला कुमार और पैड पर सोनल कुमार ने संगत किया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here