दिवाली में अपना भाग्य आजमाने वाले हो जाए सावधान,वैशाली SP का सभी SHO को सख्त निर्देश,जुआरी और जुआ अड्डा संचालक को करें गिरफ्तार 

0
209
Demo Pic

हाजीपुर:पुरे बिहार में वैशाली जिला की पहचान सबसे ज्यादा अपराध वाले जिला के रूप में रह चुकी वैशाली की पहचान अब बदलने लगी है। वैशाली के नए पुलिस कप्तान जगुनाथ रेड्डी के आगमन के साथ ही यहाँ के संगठित अपराध और अपराधी की कमर तोड़ने की मुहीम छिड़ गई है। बीते 10 दिनों में यहाँ अपराध की कई घटना हुई। जिस दिन जगुनाथ रेड्डी ने वैशाली पुलिस की कमान संभाले उसी दिन जिला में दो आपराधिक घटना हुई। जिसके बाद पुलिस की तत्परता से शहर में दुर्गा पूजा बिल्कुल शांतिपूर्ण संपन्न हुआ। बीते दो दिनों में नगर थाना क्षेत्र में दो आपराधिक घटना हुए। दोनों घटना में पुलिस ने महज 1- 2 घंटो में अपराधी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।

 

जिला पुलिस के नए अभियान रात 10 बजे के बाद बिना काम के सड़क पर दिखे जाने पर आपकी रात थाना में बीतेगी। इसके बाद शहर में लोग रात 10 बजे के बाद नहीं दीखते। और दो दिनों से शहर में  भी आपराधिक घटना नहीं हुई। अभी शहर दो दिनों से बिलकुल शांत है। इसका श्रेय जिला पुलिस कप्तान जगुनाथ रेड्डी, हाजीपुर सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी राघव दयाल, नगर थानाध्यक्ष अंजनी कुमार सिंह और उनकी टीम और DIU टीम को जाता है। जिस तरह हाजीपुर सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी देर रात भी किसी घटना की सूचना पर घटनास्थल पर पहुँच जाते हैं उसी तरह महुआ और महनार के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एक्टिव मॉड में रहें तो जिला में अपराध रुक सकता है।

 

दिवाली में अपना भाग्य आजमाने वाले जुआरियों और जुआ अड्डा संचालको पर अब जिला पुलिस अभियान चलाकर कार्रवाई करने जा रही है। वैशाली पुलिस कप्तान द्वारा जिला के सभी थानाध्यक्षों को स्पस्ट निर्देश दिया गया है की थाना क्षेत्र भी जुआ का संचालन हो रहा है तो अविलम्ब कार्रवाई कर जुआरी को गिरफ्तार किया जाए। इस दिवाली जिला पुलिस अभियान चलाकर जुआरियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी। बीते दिनों सदर अनुमंडल पलिस पदाधिकारी ने शहर में कई जुआ के ठिकानों पर छापामारी कर कई जुआरी को पहले ही जेल भेज  चुके हैं। लेकिन अब जुआरी की गिरफ़्तारी के लिए अभियान चलाया जायेगा।

कहते हैं की पुलिस का इक़बाल जब तक रहेगा अपराध नहीं होगा। वैशाली का दामन अपराध को लेकर पुरे बिहार में दागदार रहा है। अगर पुलिस की हनक इसी तरह रहेगी तो अपराधी किसी भी तरह की अपराध करने की सोच भी नहीं सकता। जुआरियों के खिलाफ पुलिस द्वारा अभियान चलाए जाने की कार्रवाई पर आम लोगों का कहना है की पुलिस की इस कार्रवाई से भी अपराध रुकेगा। क्योंकि जो लोग जुआ में अपना मेहनत का पैसा लूटा देता है वही जुआ अड्डा से निकलने के बाद लूट-पाट की घटना को अंजाम देता है, और पुलिस की छवि ख़राब होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here