प्रशिक्षु महिला दारोगा कविता और उसके पति के साथ ओपी प्रभारी और बैचमेट प्रशिक्षु दारोगा ऋतुराज ने किया मारपीट 

0
519
मुजफ्फरपुर जिला के फकुली ओपी में तैनात प्रशिक्षु दरोगा कविता कुमारी अपने पति के साथ राज्य महिला आयोग में 

पटना: कहते हैं, खाकीधारी इंसान के रूप में पुलिसवाला आम लोगों का रक्षक होता है। लेकिन अब खाकी वर्दी मिलते ही पुलिसवाला सड़क छाप गुंडा बनने पर आतूर है। इसका रोज नया- नया उदाहरण आने लगा है। खाकी के करतूत की कहानी राजधानी पटना से करीब 70 किलोमीटर दूर मुजफ्फरपुर- वैशाली जिला के बॉर्डर फकुली ओपी की चर्चा पुरे बिहार में गर्म है। मामला है की वर्ष 2018 में बिहार पुलिस की हुई 1600 दरोगा बहाली में साथ-साथ दरोगा बने 1 दरोगा ने अपने बैचमेट महिला दरोगा और उसके पति के साथ मारपीट किया है। फकुली ओपी में तैनात प्रशिक्षु महिला दरोगा कविता कुमारी ने राजधानी पटना स्थित राज्य महिला आयोग में अपनी शिकायत दर्ज कराने के बाद मीडिया को बताया की फकुली ओपी में तैनात उसका बैचमेट दरोगा ऋतुराज जायसवाल और ओपी इंचार्ज उदय कुमार सिंह उसके और उसके पति के साथ ड्यूटी के दौरान फकुली चेकपोस्ट पर मारपीट किए। मारपीट करने के दौरान महिला दरोगा कविता कुमारी को भद्दी-भद्दी गालियां दी और उसके पति को उसका दलाल तक कह दिया।

 

पीड़ित महिला दारोगा कविता कुमारी ने मीडिया को बताया कि किस तरह उसके ही साथी पुलिसकर्मियों ने थाने में ही बर्बरता और बेशर्मी की सारी हदें पार कर दी गईं। अपने पति के साथ राज्य महिला आयोग आई दरोगा ने जानकारी दी कि ड्यूटी पर तैनाती के दौरान उसके साथ छेड़खानी (लज्जा भंग) की गई। महिला दारोगा ने फकुली ओपी के इंचार्ज उदय कुमार सिंह और ट्रेनी दारोगा ऋतुराज जायसवाल के ऊपर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। जिसके बाद पुलिस डिपार्टमेंट के ऊपर कई सवाल उठ रहे हैं।

आरोपी प्रशिक्षु दरोगा ऋतुराज जायसवाल

2018 बैच की प्रशिक्षु दरोगा कविता कुमारी और आरोपी प्रशिक्षु दरोगा ऋतुराज जायसवाल बैचमेट है। दोनों अभी बिहार पुलिस अकादमी, राजगीर में प्रशिक्षणरत है। लॉक डाउन होने की वजह से अकादमी के सभी प्रशिक्षणरत दरोगा को बिहार के अलग-अलग जिलों में व्यवाहरिक प्रशिक्षण के लिए भेज दिया गया था। कविता कुमारी लॉ की स्टूडेंट भी रह चुकी है। पुलिस अकादमी,राजगीर में पीड़ित महिला प्रशिक्षु दरोगा कविता कुमारी F कंपनी की है तो वहीं आरोपी प्रशिक्षु दरोगा ऋतुराज जायसवाल E कंपनी का है। पीड़ित कविता ने बताया की फिलहाल फकुली ओपी में वह और ऋतुराज जायसवाल पोस्टेड हैं। ड्यूटी के लिए उन्हें एक महीने से लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है। थाने के सीनियर अफसर उनके साथ गाली-गलौज करते हैं। रविवार को ड्यूटी के दौरान ट्रेनी दारोगा ऋतुराज जायसवाल ने थाना इंचार्ज को उनके बारे में गलत जानकारी दी और उनसे उलझ गए। उनके साथ बदतमीजी और गाली-गलौज करने लगे। महिलाओं से जोड़कर दारोगा ऋतुराज जायसवाल ने MC/BC जैसी गंदी-गंदी गलियां दी। अपनी आपबीती सुनाते-सुनाते पीड़ित दारोगा फफक-फफक कर रोने लगी।

पीड़ित महिला दारोगा के पति ने भी कहा कि थाने में उनके साथ भी मारपीट की गई। उन्होंने चेहरे पर चोट का निशान दिखाते हुए कहा कि मैंने थाने में इस तरीके के व्यवहार को लेकर पुलिस अफसरों से बातचीत की। जब वह आरोपी दारोगा ऋतुराज जायसवाल से बातचीत कर ही रहे थे कि इतने में थाना इंचार्ज उदय कुमार सिंह वहां पहुंच गए। जब उनसे मामले को लेकर बात हो ही रही थी कि अचानक से दारोगा ऋतुराज जायसवाल हैसियत की बात करने लगे। इतने में थाना प्रभारी उदय कुमार सिंह मारने लगे। मैं थाने में बैठने नहीं बल्कि अपनी पत्नी को लाने गया था। महिला दारोगा कविता कुमारी ने कहा कि जब उनके पति की पिटाई की जा रही थी तो उन्होंने बीच बचाव की कोशिश की। इतने में दूसरे पुलिसकर्मियों ने उन्हें पकड़ लिया,महिला दारोगा को धक्का देने लगे और मेरे पति को मेरा ही दलाल कहने लगे। मैं इस डिपार्टमेंट में नौकरी नहीं करना चाहती हूँ। जहां महिला साथी के साथ इतनी वाहियाद तरीके से सलूक किया जाता है। बिहार पुलिस में ही नारी की सुरक्षा नहीं हो रही तो बाहर पब्लिक में क्या सुरक्षा दी जाएगी ?

 

पीड़िता का कहना है कि जब इस पूरे मामले की शिकायत को लेकर वह मुजफ्फरपुर के एसएसपी जयंत कांत से मिलने गई तो उन्होंने एक बार भी मिलने का टाइम नहीं दिया। वह शिकायत के लिए खड़ी रही लेकिन उनकी ओर से कोई पहल नहीं की गई। मामले में राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष दिलमणि मिश्रा ने मुजफ्फरपुर एसएसपी से रिपोर्ट तलब की है। साथ ही मुजफ्फरपुर एसएसपी जयंत कांत ने मामले की जाँच का निर्देश सिटी एसपी मुजफ्फरपुर को दिया है। इस मामले के आने के बाद पूरा पुलिस महकमा ही सवालों के घेरे में है। वहीं फकुली ओपी इंचार्ज उदय कुमार सिंह ने बताया की प्रशिक्षु दरोगा कविता कुमारी अक्सर ड्यूटी से गायब रहती है। वहीं हमने आरोपी प्रशिक्षु दरोगा ऋतुराज जायसवाल के मोबाइल 8521123601 पर कॉल कर उनका भी पक्ष जानना चाहा,लेकिन ऋतुराज जायसवाल का मोबाइल स्विचऑफ आया।

मामले में तिरहुत जोन के आईजी गणेश कुमार ने कहा की मामले की जानकारी मिली है। एसएसपी जयंत कांत पुरे मामले की जाँच गंभीरता से करा रहे हैं। मामले में जाँच रिपोर्ट आने के बाद विभागीय कार्रवाई दोषियों के विरुद्ध की जाएगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here