बेजुवान जानवरो के प्रति लोगों ने दिखाई मानवता,सराए SHO की लापरवाही से दम घुटने से तड़प-तड़प कर मर गया 30 मवेशी 

0
249
बंद कंटेनरनुमा ट्रक में मवेशी 
हाजीपुर: जानवर बेजुवान होते हैं। वह इंसानो की तरह अपनी समस्या नहीं बता सकते। लेकिन पशु प्रेमी इंसान जानवरो की भाषा भी समझ जाते हैं। लेकिन बिहार के वैशाली जिला में एक जिम्मेवार पद पर बैठी थानाध्यक्ष इतनी लापरवाह है जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती, और थानाध्यक्ष की लापरवाही से 30 बेजुवान मवेशी की मौत दम घुटने से हो गई।
क्या है पूरा मामला ? 
बीते गुरुवार की रात हाजीपुर- मुजफ्फरपुर मुख्य मार्ग के सराए टाल प्लाजा के पास रात में ग्रामीणों ने एक बंद कंटेनरनुमा ट्रक को पकड़ा। उक्त कंटेनरनुमा ट्रक में बेजुवान जानवरो को चारों पैर बांधकर एक दूसरे के ऊपर ठूस -ठूसकर क्रूरतापूर्वक 80 से ज्यादा मवेशी भरा गया था। स्थानीय लोगों ने उक्त कंटेनर समेत 3 तस्करों को पकड़कर सराए थाना की पुलिस को सुपुर्द किया। रात भर थाने में खड़ी रही बंद ट्रक और उसमे 30 मवेशियों की दम घुटने से तड़प-तड़पकर मौत हो गई। मवेशियों की मौत की जानकारी सुबह होने पर ट्रक को खोलने पर हुई। जबकि सराए पुलिस द्वारा जब रात में जब ट्रक को थाना लाया था तब पुलिस को मालूम था की ट्रक में क्रूरतापूर्वक मवेशियों को भरा हुआ है।
https://youtu.be/ymdvVmBDnr8
मामले में लोगों ने 3 तस्करों को पकड़कर थाना को सौंपा था,लेकिन एक तस्कर को ही सराए थाना की पुलिस ने जेल भेजा। तस्करो की क्रूरता के साथ मामले में पुलिस की लापरवाही दिखी, जिसकी वजह से ज्यादातर मवेशी मर चुके थे या बहुत बुरे हालात में दिखे। लापरवाही से हुई मौत के सवाल पर सराए थानेदार सुनीता कुमारी भागती दिखी। तस्करों की क्रूरता से तो लोगों ने इन मवेशियों को बचा लिया था ,लेकिन लापरवाह थानाध्यक्ष के कारण बेजुवान जानवर तड़प-तड़पकर मर गया।
प्रत्येक गुरुवार की रात मवेशी लोड ट्रको से होती है वसूली…
जिला में प्रत्येक गुरुवार की रात पुलिस की रात्रि गस्ती गाड़ी मवेशी लोड ट्रकों से वसूली करती है। हाजीपुर शहर के जढुआ,अंजानपीर चौक समेत जिला के नेशनल हाईवे पर रातभर वसूली का खेल बदस्तूर जारी रहता है। हर गुरुवार की रात वैशाली जिला की सीमा से होकर करीब 200 ट्रक दूसरे जिला और दूसरे प्रदेशों में जाती है। ट्रकों पर मवेशी को लोड कर तस्कर कसाईखाना में पहुंचाने जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here